Gallery

राफेल को हमने 670 करोड़ में खरीदा आपसे 9%कम में: सीतारमण

आज ठंडक भरे दिन मे संसद मे राफेल विमान पर गर्मा गर्म बेहस हुई


 जिस में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने डील की बेसिक कीमत को लेकर खुलासा कर दिया।

Rafel deel
Rafel viman

उन्होंने विमानों की संख्या के बारे में वास्तविक स्थिति बताई और कीमत के बारे में भी खुलासा कर दिया। निर्मला सीतारमण ने कहा, ‘‘यूपीए सरकार ने जब डील की थी, तब 18 विमान तैयार हालत में मिलने थे। बाकी 108 विमान 11 साल की अवधि में बनाए जाने थे। 2006 के बाद 2014 तक आप 18 जहाज भी हासिल नहीं कर सके? हमने डील में फ्लाईअवे विमानों की संख्या कम नहीं की। इसकी संख्या 18 से बढ़ाकर 36 की। हमें इस साल सितंबर में पहला और 2022 तक आखिरी विमान भी मिल जाएगा। यूपीए के समय एक बेसिक राफेल की कीमत 737 करोड़ थी। हमें यह 9% कम रेट पर 670 करोड़ रुपए में मिलेगा। सेब की तुलना संतरे से ना करें।’’ उन्होंने कहा- बोफोर्स ने कांग्रेस को डुबो दिया था और राफेल मोदी सरकार को सत्ता वापस दिलाएगा।

सीतारमण के जवाब पर संसद में राहुल ने कहा- जब सही दाम में 126 एयरक्राफ्ट मिल रहे थे, तब आपने केवल 36 ही क्यों खरीदे। आपने 2 घंटे जवाब दिया, लेकिन अनिल अंबानी पर नहीं बोलीं। यह नहीं बताया कि उन्हें कॉन्ट्रैक्ट किसने दिया?

राफेल विमान सौदे को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस लगातार इस डील में घोटाला होने की बात बोल रही है, और इन्ही झूठी बातों के दम पर वह 3 राज्यो में सरकार भी बना चुकी है जबकि उसके बाद आए सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से यह साफ हो गया है कि इस डील मे कोई घोटाला नहीं हुआ है, चीफ जस्टिस ने कहा था कि यह विमान देश की जरूरत है।


इस डील के तहत भारत सरकार फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदेगा। ये सौदा 7.8 बिलियन यूरो यानि करीब 59 हजार करोड़ रुपए का हुआ है। पिछले 20 साल में यह लड़ाकू विमानों की खरीद का पहला सौदा होगा क्योंकि यूपीए सरकार के समय इस सौदे का रोडमेप अटका रहा था।
राफेल के बारे में-
-डसॉल्ट राफेल फ्रांस में निर्मित लड़ाकू विमान है।
-यह दो इंजन वाला 15.27 मीटर लम्बा, केनर्ड डेल्टा विंग,मल्टीरोल डेसॉल्ट एविएशन द्वारा डिजाइन और निर्मित लड़ाकू विमान है।
-इसकी अधिकतम गति-2100km/h है।
-फ्रांसीसी भाषा में राफेल का मतलब ' तूफान ' होता है।
-इसका वजन (बिना लॉड) 10,000 किलो है, तथा यह अपने साथ अधिकतम 15,000किलो वजन लेकर 50,000 फिट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है।
-यह अपने साथ 4,500 किलोग्राम ईंधन लेकर उड़ान भर सकता है।
-यह विमान परमाणु हथियार ले जाने मे सक्षम है, और अधिकतम 3,700 किमी. तक मार कर सकता है।
-वर्तमान मे यह विमान मिस्र, कतर व फ्रांस की वायुसेना मे अपनी सेवाएं दे रहा है।
कांग्रेस का दावा-
यूपीए सरकार के दौरान एक फाइटर जेट की कीमत 600 करोड़ रुपए तय की गई थी। मोदी सरकार के दौरान एक राफेल करीब 1600 करोड़ रुपए का पड़ेगा।
सरकार का दावा-
सरकार ने साफ कहा है कि यूपीए सरकार मे सिर्फ जेट खरीदने को लेकर बातचीत हुई थी जिसमें स्पेयर पार्ट्स, ट्रेनिंग सिम्युलेटर्स, हैंगिग, मिसाइल या हथियार खरीदने का कोई प्रावधान उस मसौदे में शामिल नहीं था। जबकि दोबारा से शुरू किए गए समझोते मे ये सभी सुविधाएं मौजूद होगी जिस कारण इसकी कीमत मे बढ़ोतरी हो गई है।

Post a Comment

0 Comments